Home Hindi रेल मंत्री गोयल बोले- मजदूरों को भेजने के लिए महाराष्ट्र को 145...

रेल मंत्री गोयल बोले- मजदूरों को भेजने के लिए महाराष्ट्र को 145 ट्रेनें दीं, 74 चलने को तैयार थीं- राज्य सरकार 24 के लिए ही यात्री दे पाई

10
0

महाराष्ट्र सेप्रवासी मजदूरों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने को लेकर 2 दिनसे रेल मंत्री पीयूष गोयल और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच ट्विटर वार जारी है। गोयल ने मंगलवार को उद्धवसरकार पर बदइंतजामी का आरोप लगाया। उन्होंनेकहा, “रेलवे के कर्मचारियों ने पूरी रात मेहनत की। हमने महाराष्ट्र को 145 ट्रेनें दीं। हर ट्रेन के बारे मेंसरकार को जानकारी दी। शाम 5 बजे तक 74 ट्रेनें रवाना होनी थीं। लेकिन, दोपहर 12.30 तक कोई यात्री ही नहीं बैठा। इन 74 में से सिर्फ 24 ट्रेनों के लिए सरकार यात्री उपलब्ध करा पाई। 50 ट्रेनें अब भी महाराष्ट्र में खड़ी हैं।”

रेल मंत्री के मुताबिक, इनमें से भी सिर्फ 13 ट्रेनें ही मजदूरों को लेकर उनके राज्यों तक गई है। उन्होंने एक अन्यट्वीट में कहा- “मैं महाराष्ट्र सरकार से अनुरोध करता हूं कि यह सुनिश्चित करने में पूरी तरह से सहयोग करें कि संकटग्रस्त प्रवासी अपने घरों तक पहुंचे। यात्रियों को समय पर स्टेशन पर लाया जाए, इससे पूरे नेटवर्क और योजना प्रभावित होगी।”

रेल मंत्री का नया ट्वीट

क्या हैट्रेन-ट्विटर विवाद

इससे पहले श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के मुद्दे पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल में बहस हो गई। उद्धव ने रविवार को आरोप लगाया कि रेलवे पर्याप्त ट्रेनें उपलब्ध नहीं करवा रहा। इसके जवाब में रेल मंत्री ने रविवार शाम 7 बजे से रात 12 बजे तक 9 बार ट्वीट कर महाराष्ट्र सरकार से जानकारी मांगी, लेकिन डिटेल नहीं मिल पाई। रात2 बजकर 11 मिनट पर गोयल ने 10वां ट्वीट किया और बताया कि 125 ट्रेनों की लिस्ट मांगी थी, लेकिन 46 की ही मिली।

गोयल ने पहली बार शाम 7.14 बजे एक साथ 3 ट्वीट किए। उन्होंने उद्धव ठाकरे पर कटाक्ष भी किया। गोयल ने कहा- उम्मीद है कि पहले की तरह ट्रेनें स्टेशन पर आने के बाद, खाली नहीं लौटेंगी।

49 मिनट बाद चौथा ट्वीट

53 मिनट बाद फिर 2 ट्वीट

1 घंटे 2 मिनट बाद 7वां ट्वीट

16 मिनट बाद फिर 2 ट्वीट

2 घंटे बाद रात 2.11 बजे 10वां ट्वीट

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


रेल मंत्री लगातार ट्वीट कर सीएम उद्धव ठाकरे और महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। (फाइल)