Home Hindi मैं एसटीएफ का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मेरा एनकाउंटर नहीं किया, सिर्फ टॉर्चर...

मैं एसटीएफ का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मेरा एनकाउंटर नहीं किया, सिर्फ टॉर्चर किया, फिजिकली-मेंटली दोनों, 5 दिन खाना नहीं दिया: डॉ. कफील खान

12
0

8 महीने से जेल में बंद गोरखपुर के डॉक्टर कफील खान को बीती रात 12 बजे जेल से रिहा कर दिया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उनकी रिहाई के आदेश दिए थे। डॉ. कफील देशभर में मशहूर हो गए हैं, इसकी क्या वजह है? क्या वो खुद को कन्हैया कुमार, शेहला राशिद या इन जैसों के बराबर मानते हैं? इस सवाल पर कफील कहते हैं कि वो इन सबके संपर्क में रहे हैं। कफील कहते हैं, ‘मैं इनके बराबर हूं या नहीं? ये लोगों को जज करना है। मैं चाहे कन्हैया कुमार हो, जिग्नेश मेवाणी हो, चंद्रशेखर हो या उमर खालिद हो, इन सबके संपर्क में रहा हूं। हम एक अच्छे दोस्त की तरह मिलते हैं, बात करते हैं। कहीं-कहीं मंच भी शेयर किया। कन्हैया के लिए तो मैं बेगूसराय में चुनाव प्रचार में भी गया था।’

कन्हैया कुमार के साथ एक कार्यक्रम में कफील खान।

जब मुझे पुलिस पकड़कर ले जाती है तो कोई मदद को नहीं आता

राजनीति में जाएंगे या नहीं? इस पर कफील कोई साफ जवाब तो नहीं देते, लेकिन कहते हैं कि आगे जाकर पता चलेगा। वो कहते हैं, उनकी इंसाफ की लड़ाई राजनीतिक बन गई और हो सकता है कि उनका राजनीतिक इस्तेमाल किया गया हो। जब मुझे पुलिस पकड़ कर ले जाती है तब कोई मदद के लिए आगे नही आता। लेकिन, जब जनता मेरे लिए सड़क पर उतरी तो सारी पॉलिटिकल पार्टियां सपोर्ट करने आ जाती हैं।

कफील कहते हैं, उन्होंने अब तक 3000 कैम्प लगाए हैं और 50 हजार बच्चों को दवाएं बांटीं हैं और उनका फ्री इलाज किया है। उस सबके लिए किसी सरपंच या विधायक की मदद की जरूरत पड़ती ही है। फिर चाहे वो भाजपा का हो या कांग्रेस का, उससे फर्क नही पड़ता है। इससे कुछ गरीब लोगों का भला हो जाता है।

यूपी पुलिस ने जब कफील खान को गिरफ्तार किया था।

आदित्यनाथ मेरा सस्पेंशन खत्म करें, मैं कोरोना वॉरियर बनना चाहता हूं

कफील फिलहाल राजनीति नहीं, कोरोना वॉरियर बनना और बाढ़ पीडितों की मदद करना चाहते हैं। वो सीएम योगी आदित्यनाथ से कहना चाहते हैं कि उनका सस्पेंशन खत्म किया जाए. ताकि वो रिसर्च कर सकें और कोरोना वॉरियर की तरह काम करें। कफील नई वैक्सीन का ट्रायल खुद पर करवाना चाहते हैं। कफील बिहार-असम और केरल में बाढ़ वाले इलाकों में कैम्प लगाने जाएंगे।

सीएए-एनआरसी के विरोध में दिए भाषण पर कफील खान को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

उत्तरप्रदेश सरकार ने मुझे ही नहीं, मेरे परिवार को भी प्रताड़ित किया

सोशल एक्टिविस्ट बनने के बाद उनका परिवार कितना और कैसे प्रभावित हुआ है? इस सवाल पर कफील खान कहते हैं, ‘मुझसे ज्यादा मेरे परिवार ने भुगता है। 65 साल की मेरी बूढ़ी मां को कोरोना के बीच अलीगढ़ से इलाहाबाद तक भटकना पड़ा और वकीलों के पैर पकड़ने पड़े। सुप्रीम कोर्ट में लड़ना कोई आसान काम नहीं है।’ वो कहते हैं कि हाईकोर्ट के आर्डर में साफ कहा गया है कि जब से बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन कांड हुआ है, न सिर्फ डॉ. कफील को, बल्कि उनके पूरे परिवार को उत्तर प्रदेश सरकार की मशीनरी ने उनको प्रताड़ित किया है।

कफील कहते हैं, मैं एसटीएफ का शुक्रगुजार हूं जिन्होंने मेरा एनकाउंटर नही किया। सिर्फ टॉर्चर किया। मुझे 5 दिन तक खाना नही दिया। फिजिकली टॉर्चर किया और मेंटली भी। 8 महीने तक सिर्फ मुंह बंद करने के लिए कि जो बच्चे मर गए, उनके बारे में बात मत करना, बीआरडी के बारे में बात मत करना।

12 दिसंबर 2019 को कफील सीएए के विरोध में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुए छात्रों के प्रदर्शन में शामिल हुए थे।

एनआरसी आया तो हम लोग सड़कों पर आएंगे

क्या आपको भी लगता है कि एनआरसी और सीएए मुसलमानों का आंदोलन बन गया है? इस सवाल पर कफील कहते हैं, ‘ये कभी मुसलमानों का आंदोलन नही था। यह भारतीयों का आंदोलन था। मैं कभी सीएए के खिलाफ था ही नहीं। हमारे गृहमंत्री के अनुसार सीएए नागरिकता देने का कानून है, उसका कोई विरोध नही होना चाहिए। मैंने भी कभी उसका विरोध नही किया। मैं एनपीआर और एनआरसी का विरोध करता हूं। जब एनआरसी आएगा तो सीएए एक खतरनाक हथियार बन जाएगा। एनआरसी आया तो हम लोग सड़कों पर आएंगे ही आएंगे।’

यूपी में विधानसभा चुनाव में सपा-कांग्रेस और लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा एक हुए, क्या ये सिर्फ अपने फायदे के लिए एक होते है? इस सवाल पर कफील कहते हैं कि उन्हें फिलहाल इतनी पॉलिटिक्स नहीं आती।

कफील खान कैंप लगाकर बच्चों का चेकअप करते थे।

ऑक्सीजन कांड में जिन बच्चों को कफील ने बचाया था, वो आज भी उनके परिवारों के संपर्क में हैं। कहते हैं, जो जिंदा हैं या जिनके बच्चे मर गए थे, कई बार वो लोग मेरे साथ फेसबुक लाइव भी आ चुके हैं। कफील उसी गोरखपुर से हैं जहां से मुख्यमंत्री आते हैं। वो कहते हैं कि उन्हें शक है कि सीएम योगी को गुमराह किया जाता है। ऑक्सीजन कांड हुआ तो योगी जी ने तत्कालीन चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन और तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को बचाने के लिए मुझे बलि का बकरा बनाया था। अभी भी यही हो रहा है।

ऐसा तो नही आप मुसलमान हैं इसलिए फंसाया जा रहा हो? इस बात से वो सहमत नहीं। वो कहते हैं, ‘अगर कफील खान की जगह कपिल मिश्रा भी होता, तो भी उसके साथ ऐसा ही सलूक किया जाता। क्योंकि उस वक्त किसी भी तरह से सरकार को ऑक्सीजन कांड को दबाना था। मीडिया इतना उछाल रहा था कि सीएम इस्तीफा दो, हेल्थ मिनिस्टर इस्तीफा दो। फिर जब मैं जेल से बाहर आया तो मैं सवाल उठाने लगा कि 70 बच्चों को किसने मारा है? तो उन्होंने मुझे दबाना चाहा।’

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


ये तस्वीर कफील खान की रिहाई के तुरंत बाद की है।