Home Business मिला नया पार्टनर: टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार को खरीदने की रेस में...

मिला नया पार्टनर: टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार को खरीदने की रेस में ओरेकल ने मारी बाजी, बायडांस ने किया खंडन

109
0
  • टिकटॉक को क्लाउड तकनीक उपलब्ध कराएगा ओरेकल, ट्रम्प प्रशासन की मंजूरी के बाद फाइनल होगा सौदा
  • जनरल अटलांटिक और सिक्योआ को मिलेगी हिस्सेदारी

 

चीनी कंपनी बायडांस के शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार को जल्द नया साझेदार मिल सकता है। अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार, बायडांस ने टिकटॉक के अमेरिकी ऑपरेशन के संचालन के लिए क्लाउड कंपनी ओरेकल का चयन किया है। बायडांस ने टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के ऑफर को खारिज कर दिया है। उधर, बायडांस ने ओरेकल के साथ साझेदारी की खबरों का खंडन किया है।

ओरेकल को हिस्सेदारी मिलने पर संशय

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बायडांस ने टिकटॉक को चलाने के लिए ओरेकल को बतौर टेक्नीकल पार्टनर चुना है। हालांकि, इस साझेदारी के तहत ओरेकल को टिकटॉक की हिस्सेदारी मिलने को लेकर संशय बना हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह बिक्री से अलग है और ओरेकल टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार के संचालन के लिए क्लाउड तकनीक उपलब्ध कराएगा।

जनरल अटलांटिक को मिलेगी हिस्सेदारी

सूत्रों के हवाले से रॉयटर्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि टिकटॉक के अमेरिकी यूजर्स का डेटा मैनेजमेंट भी ओरेकल के पास रहेगा। इसके अलावा अमेरिकी निवेश फर्म जनरल अटलांटिक और सिक्योआ को टिकटॉक में बड़ी हिस्सेदारी मिलेगी। जनरल अटलांटिक और सिक्योआ बायडांस के बड़े निवेशकों में शामिल हैं।

ट्रम्प प्रशासन से लेनी होगी मंजूरी

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस सौदे को अंतिम रूप देने से पहले ट्रम्प प्रशासन की मंजूरी लेनी होगी। कमेटी ऑन फॉरेन इन्वेस्टमेंट इन यूनाइटेड स्टेट्स (सीएफआईयूएस) संभावित राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिम को लेकर इस सौदे की जांच करेगी। यदि ट्रम्प प्रशासन इस सौदे को खारिज कर देता है तो बायडांस को फिर से नए साझेदार की तलाश करनी पड़ सकती है।

इन कंपनियों ने दिया था ऑफर

  • माइक्रोसॉफ्ट-वॉलमार्ट
  • ओरेकल
  • सेंट्रिक्स असेट मैनेजमेंट लिमिटेड-ट्रिलर इंक

माइक्रोसॉफ्ट ने कहा- बायडांस ने खारिज किया ऑफर

माइक्रोसॉफ्ट ने एक आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि बायडांस ने हमारा ऑफर खारिज कर दिया। बायडांस, टिकटॉक का अमेरिकी कारोबार हमें नहीं बेचेगी। हमें भरोसा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा को देखते हुए टिकटॉक यूजर्स के लिए हमारा प्रस्ताव अच्छा होगा।

बायडांस ने किया खंडन

उधर, चीन के सरकारी टीवी चैनल चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क (सीजीटीएन) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बायडांस ने अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन किया है। बायडांस ने कहा है कि वह टिकटॉक का अमेरिकी कारोबार न तो ओरेकल को बेचेगा और ना ही किसी अमेरिकी खरीदार को इसका सोर्स कोड देगा। हालांकि, इस संबंध में बायडांस की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

ओरेकल के ट्रम्प प्रशासन से गहरे रिश्ते

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, ओरेकल के ट्रम्प प्रशासन से गहरे रिश्ते हैं। ओरेकल के संस्थापक लैरी एलिसन ने इस साल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के लिए फंड जुटाने के एक कार्यक्रम का आयोजन किया था। ओरेकल की सीईओ साफरा कैट्ज राष्ट्रपति की ट्रांजिशन टीम का हिस्सा रह चुकी हैं। साफरा का व्हाइट हाउस में आना-जाना लगा रहता है। पिछले महीने ट्रम्प ने भी कहा था कि वे टिकटॉक को खरीदने में ओरेकल का समर्थन करेंगे।

पहली तिमाही में दो फीसदी बढ़ा ओरेकल का रेवेन्यू

क्लाउड कंपनी ओरेकल ने पिछले सप्ताह ही वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही के वित्तीय नतीजे घोषित किए थे। क्लाउड और इंफ्रास्ट्रक्चर के नए ग्राहकों की बदौलत पहली तिमाही में ओरेकल का रेवेन्यू 9.4 बिलियन डॉलर रहा है। एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले यह 2 फीसदी ज्यादा है। इससे पहले चीन कह चुका है कि टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार की बिक्री जबरदस्ती लूट के समान है।

भारत के बाद अमेरिका ने लगाया था टिकटॉक पर बैन

लद्दाख की गलवान घाटी में सीमा विवाद के बाद भारत ने जून में टिकटॉक समेत चीनी कंपनियों के 59 ऐप पर बैन लगा दिया था। इसके बाद अमेरिका में ट्रम्प प्रशासन ने टिकटॉक पर बैन के लिए एग्जीक्यूटिव ऑर्डर जारी किया था। हालांकि, यह बैन 15 सितंबर से लागू होना है। डोनाल्ड ट्रम्प साफ कह चुके हैं कि अगर इस तारीख तक टिकटॉक के अमेरिकी कारोबार की बिक्री नहीं होती है तो वे बैन लगा देंगे।

भारतीय कारोबार को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं

टिकटॉक के भारतीय कारोबार को लेकर अभी तक कोई स्थिति स्पष्ट नहीं है। कई रिपोर्ट्स में कहा गया है कि जापान का निवेश समूह सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्प और भारत की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज टिकटॉक का भारतीय कारोबार खरीद सकती हैं। हालांकि, अभी तक इन रिपोर्ट्स को लेकर टिकटॉक, सॉफ्टबैंक ग्रुप और रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

कोरोना के दौर में संसद का पहला सत्र शुरू :

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here